Baal Mazdoori Essay In Hindi

हमारे देश के साथ ही विदेशों में भी बाल मजदूरी एक बड़ा मुद्दा है जिसके बारे में हर एक को जागरुक होना चाहिए। चलिये, हम अपने बच्चों को इसके बारे में बताते है, इसके क्या कारण और उपाय है, जिससे समाज को इस बुराई से बचाया जा सके। सभी बच्चों को ये निबंध समझ में आये इसलिये इसे बेहद आसान शब्दों में लिखा गया है।

बाल मजदूरी पर निबंध (चाइल्ड लेबर एस्से)

You can get here some essays on Child Labour in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

बाल मजदूरी निबंध 1 (100 शब्द)

किसी भी क्षेत्र में बच्चों द्वारा अपने बचपन में दी गई सेवा को बाल मजदूरी कहते है। इसे गैर-जिम्मेदार माता-पिता की वजह से, या कम लागत में निवेश पर अपने फायदे को बढ़ाने के लिये मालिकों द्वारा जबरजस्ती बनाए गए दबाव की वजह से जीवन जीने के लिये जरुरी संसाधनों की कमी के चलते ये बच्चों द्वारा स्वत: किया जाता है, इसका कारण मायने नहीं रखता क्योंकि सभी कारकों की वजह से बच्चे बिना बचपन के अपना जीवन जीने को मजबूर होते है। बचपन सभी के जीवन में विशेष और सबसे खुशी का पल होता है जिसमें बच्चे प्रकृति, प्रियजनों और अपने माता-पिता से जीवन जीने का तरीका सीखते है। सामाजिक, बौद्धिक, शारीरिक, और मानसिक सभी दृष्टीकोण से बाल मजदूरी बच्चों की वृद्धि और विकास में अवरोध का काम करता है।

बाल मजदूरी निबंध 2 (150 शब्द)

बाल मजदूरी बच्चों से लिया जाने वाला काम है जो किसी भी क्षेत्र में उनके मालिकों द्वारा करवाया जाता है। ये एक दबावपूर्णं व्यवहार है जो अभिवावक या मालिकों द्वारा किया जाता है। बचपन सभी बच्चों का जन्म सिद्ध अधिकार है जो माता-पिता के प्यार और देख-रेख में सभी को मिलना चाहिए, ये गैरकानूनी कृत्य बच्चों को बड़ों की तरह जीने पर मजबूर करता है। इसके कारण बच्चों के जीवन में कई सारी जरुरी चीजों की कमी हो जाती है जैसे- उचित शारीरिक वृद्धि और विकास, दिमाग का अनुपयुक्त विकास, सामाजिक और बौद्धिक रुप से अस्वास्थ्यकर आदि।

इसकी वजह से बच्चे बचपन के प्यारे लम्हों से दूर हो जाते है, जो हर एक के जीवन का सबसे यादगार और खुशनुमा पल होता है। ये किसी बच्चे के नियमित स्कूल जाने की क्षमता को बाधित करता है जो इन्हें समाजिक रुप से देश का खतरनाक और नुकसान दायक नागरिक बनाता है। बाल मजदूरी को पूरी तरह से रोकने के लिये ढ़ेरों नियम-कानून बनाने के बावजूद भी ये गैर-कानूनी कृत्य दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है।

बाल मजदूरी निबंध 3 (200 शब्द)

बाल मजदूरी भारत में बड़ा सामाजिक मुद्दा बनता जा रहा है जिसे नियमित आधार पर हल करना चाहिए। ये केवल सरकार की जिम्मेदारी नहीं है बल्कि इसे सभी सामाजिक संगठनों, मालिकों, और अभिभावकों द्वारा भी समाधित करना चाहिए। ये मुद्दा सभी के लिये है जोकि व्यक्तिगत तौर पर सुलझाना चाहिए, क्योंकि ये किसी के भी बच्चे के साथ हो सकता है।

भयंकर गरीबी और खराब स्कूली मौके की वजह से बहुत सारे विकासशील देशों में बाल मजदूरी बेहद आम बात है। बाल मजदूरी की उच्च दर अभी भी 50 प्रतिशत से अधिक है जिसमें 5 से 14 साल तक के बच्चे विकासशील देशों में काम कर रहे है। कृषि क्षेत्र में बाल मजदूरी की दर सबसे उच्च है जो ज्यादातर ग्रामीण और अनियमित शहरी अर्थव्यवस्था में दिखाई देती है जहाँ कि अधिकतर बच्चे अपने दोस्तों के साथ खेलने और स्कूल भेजने के बजाए प्रमुखता से अपने माता-पिता के द्वारा कृषि कार्यों में लगाये गये है।

बाल मजदूरी का मुद्दा अब अंतर्राष्ट्रीय हो चुका है क्योंकि देश के विकास और वृद्धि में ये बड़े तौर पर बाधक बन चुका है। स्वस्थ बच्चे किसी भी देश के लिये उज्जवल भविष्य और शक्ति होते है अत: बाल मजदूरी बच्चे के साथ ही देश के भविष्य को भी नुकसान, खराब तथा बरबाद कर रहा है।


 

बाल मजदूरी निबंध 4 (250 शब्द)

बाल मजदूरी इंसानियत के लिये अपराध है जो समाज के लिये श्राप बनता जा रहा है तथा जो देश के वृद्धि और विकास में बाधक के रुप में बड़ा मुद्दा है। बचपन जीवन का सबसे यादगार क्षण होता है जिसे हर एक को जन्म से जीने का अधिकार है। बच्चों को अपने दोस्तों के साथ खेलने का, स्कूल जाने का, माता-पिता के प्यार और परवरिश के एहसास करने का, तथा प्रकृति की सुंदरता का आनंद लेने का पूरा अधिकार है। जबकि केवल लोगों( माता-पिता, मालिक ) की गलत समझ की वजह से बच्चों को बड़ों की तरह जीवन बिताने पर मजबूर होना पड़ रहा है। जीवन के हर जरुरी संसाधनों की प्राप्ति के लिये उन्हें अपना बचपन कुर्बान करना पड़ रहा है।

माता-पिता अपने बच्चों को परिवार के प्रति बचपन से ही जिम्मेदार बनाना चाहते है। वो ये नहीं समझते कि उनके बच्चों को प्यार और परवरिश की जरुरत होती है, उन्हें नियमित स्कूल जाने तथा अच्छी तरह से बड़ा होने के लिये दोस्तों के साथ खेलने की जरुरत है। बच्चों से काम कराने वाले माँ-बाप सोचते है कि बच्चे उनके जागीर होते है और वो उन्हें अपने हिसाब से इस्तेमाल करते है। वास्तव में हर माता-पिता को ये समझना चाहिए कि देश के प्रति भी उनकी कुछ जिम्मेदारी है। देश के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिये उन्हें अपने बच्चों को हर तरह से स्वस्थ बनाना चाहिए।

माता-पिता को परिवार की जिम्मेदारी खुद से लेनी चाहिए तथा अपने बच्चों को उनका बचपन प्यार और अच्छी परवरिश के साथ जीने देना चाहिए। पूरी दुनिया में बाल मजदूरी के लिए मुख्य कारण गरीबी, माता-पिता, समाज, कम आय, बेरोजगारी, खराब जीवन शैली तथा समझ, सामाजिक न्याय, स्कूलों की कमी, पिछड़ापन, और अप्रभावशाली कानून है जो देश के विकास को प्रत्यक्षत: प्रभावित कर रहा है।

 

बाल मजदूरी निबंध 5 (300 शब्द)

5 से 14 साल तक के बच्चों का अपने बचपन से ही नियमित काम करना बाल मजदूरी कहलाता है। विकासशील देशों मे बच्चे जीवन जीने के लिये बेहद कम पैसों पर अपनी इच्छा के विरुद्ध जाकर पूरे दिन कड़ी मेहनत करने के लिए मजबूर है। वो स्कूल जाना चाहते है, अपने दोस्तों के साथ खेलना चाहते है और दूसरे अमीर बच्चों की तरह अपने माता-पिता का प्यार और परवरिश पाना चाहते है लेकिन दुर्भाग्यवश उन्हें अपनी हर इच्छाओं का गला घोंटना पड़ता है।

विकासशील देशों में, खराब स्कूलिंग मौके, शिक्षा के लिये कम जागरुकता और गरीबी की वजह से बाल मजदूरी की दर बहुत अधिक है। ग्रामीण क्षेंत्रों में अपने माता-पिता द्वारा कृषि में शामिल 5 से 14 साल तक के ज्यादातर बच्चे पाए जाते है। पूरे विश्व में सभी विकासशील देशों में बाल मजदूरी का सबसे मुख्य कारण गरीबी और स्कूलों की कमी है।

बचपन हर एक के जीवन का सबसे खुशनुमा और जरुरी अनुभव माना जाता है क्योंकि बचपन बहुत जरुरी और दोस्ताना समय होता है सीखने का। अपने माता-पिता से बच्चों को पूरा अधिकार होता है खास देख-रेख पाने का, प्यार और परवरिश का, स्कूल जाने का, दोस्तों के साथ खेलने का और दूसरे खुशनुमा पलों का लुफ्त उठाने का। बाल मजदूरी हर दिन न जाने कितने अनमोल बच्चों का जीवन बिगाड़ रहा है। ये बड़े स्तर का गैर-कानूनी कृत्य है जिसके लिये सजा होनी चाहिये लेकिन अप्रभावी नियम-कानूनों से ये हमारे आस-पास चलता रहता है।

समाज से इस बुराई को जड़ से मिटाने के लिये कुछ भी बेहतर नहीं हो रहा है। कम आयु में उनके साथ क्या हो रहा है इस बात का एहसास करने के लिये बच्चे बेहद छोटे, प्यारे और मासूम है। वो इस बात को समझने में अक्षम है कि उनके लिये क्या गलत और गैर-कानूनी है, बजाए इसके बच्चे अपने कामों के लिये छोटी कमाई को पाकर खुश रहते है। अनजाने में वो रोजाना की अपनी छोटी कमाई में रुचि रखने लगते है और अपना पूरा जीवन और भविष्य इसी से चलाते है।


 

बाल मजदूरी निबंध- 6 (400 शब्द)

अपने देश के लिये सबसे जरुरी संपत्ति के रुप में बच्चों को संरक्षित किया जाता है जबकि इनके माता-पिता की गलत समझ और गरीबी की वजह से बच्चे देश की शक्ति बनने के बजाए देश की कमजोरी का कारण बन रहे है। बच्चों के कल्याण के लिये कल्याकारी समाज और सरकार की ओर से बहुत सारे जागरुकता अभियान चलाने के बावजूद गरीबी रेखा से नीचे के ज्यादातर बच्चे रोज बाल मजदूरी करने के लिये मजबूर होते है।

किसी भी राष्ट्र के लिये बच्चे नए फूल की शक्तिशाली खुशबू की तरह होते है जबकि कुछ लोग थोड़े से पैसों के लिये गैर-कानूनी तरीके से इन बच्चों को बाल मजदूरी के कुँएं में धकेल देते है साथ ही देश का भी भविष्य बिगाड़ देते है। ये लोग बच्चों और निर्दोष लोगों की नैतिकता से खिलवाड़ करते है। बाल मजदूरी से बच्चों को बचाने की जिम्मेदारी देश के हर नागरिक की है। ये एक सामाजिक समस्या है जो लंबे समय से चल रहा है और इसे जड़ से उखाड़ने की जरुरत है।

देश की आजादी के बाद, इसको जड़ से उखाड़ने के लिये कई सारे नियम-कानून बनाए गये लेकिन कोई भी प्रभावी साबित नहीं हुआ। इससे सीधे तौर पर बच्चों के मासूमियत का मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक तरीके से विनाश हो रहा है। बच्चे प्रकृति की बनायी एक प्यारी कलाकृति है लेकिन ये बिल्कुल भी सही नहीं है कि कुछ बुरी परिस्थितियों की वजह से बिना सही उम्र में पहुँचे उन्हें इतना कठिन श्रम करना पड़े।

बाल मजदूरी एक वैशविक समस्या है जो विकासशील देशों में बेहद आम है। माता-पिता या गरीबी रेखा से नीचे के लोग अपने बच्चों की शिक्षा का खर्च वहन नहीं कर पाते है और जीवन-यापन के लिये भी जरुरी पैसा भी नहीं कमा पाते है। इसी वजह से वो अपने बच्चों को स्कूल भेजने के बजाए कठिन श्रम में शामिल कर लेते है। वो मानते है कि बच्चों को स्कूल भेजना समय की बरबादी है और कम उम्र में पैसा कमाना परिवार के लिये अच्छा होता है। बाल मजदूरी के बुरे प्रभावों से गरीब के साथ-साथ अमीर लोगों को भी तुरंत अवगत कराने की जरुरत है। उन्हें हर तरह की संसाधनों की उपलब्ता करानी चाहिये जिसकी उन्हें कमी है। अमीरों को गरीबों की मदद करनी चाहिए जिससे उनके बच्चे सभी जरुरी चीजें अपने बचपन में पा सके। इसको जड़ से मिटाने के लिये सरकार को कड़े नियम-कानून बनाने चाहिए।


Previous Story

महिला सशक्तिकरण पर निबंध

Next Story

सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध

Essay on Child Labour in Hindi

Essay on Child Labour in Hindi : आज यदि दिल्ली की सडको पर ही हम देख ले तो आपको जगह जगह पर इस प्रकार के बच्चे आपको मिल जाएंगे जिनके तन पर ना कपडा होता हैं और उन्हें खाना भी सही से नहीं मिलता यानी की तीनो समय के खाने से वो वंचित रह जाते हैं काफी मात्रा में. इसके पीछे कही ना कही प्रशासन भी जिम्मेदार हैं की कहाँ से वो बच्चे आएं हैं? कहाँ वो बच्चे जाएंगे किसी ने इस चीज़ को जानने की कोशिश नहीं की. 1986 में बाल श्रम कानून लागू हो गया और 1987 में ये अमल में भी लाया गया परन्तु इन 20 सालो में उस पर ठीक प्रकार से जिनके पास इसको रोकने का इसको सम्मान करने का जिनके पास दायित्व था उन्होंने अपना काम सही से नहीं किया उनके कारण से ये परिस्थिति भयावह हो गयी हैं.

Also Check : Stop Child Labour Quotes in Hindi

Essay on Child Labour in Hindi

मुद्दे की बात ये हैं की जो पूरा का पूरा बचपन हैं बच्चे हैं उनकी जो एक तस्वीर अगर हम पुरे देश के अंदर देखे तो वो तस्वीर क्या हैं और खासतौर पर जो कानून शुरू में बना और जो कानून अभी इस संशोधन के साथ अभी हाल ही में पास हुआ दोनों के बीच जो फर्क हैं वो फर्क अहालिया संशोधन बाल श्रम को प्रोत्साहित करते हैं की हतौत्साहित करते है? दोनों को हम चाहेंगे की तुलनात्मक रूप से दोनों को अलग अलग रूप से आप जाने.

Essay on Child Labour in Hindi


देखिये इस समय देश में बाल मजदूरी की क्या स्थिति हैं वो हम सभी जानते हैं तो जो आंकड़े आप देखेंगे सरकार के आंकड़े की चर्चा करे तो पता चलेगा की लगभग 83,00,000 अगर गैर सरकारी आंकड़ो की बात करे तो 5,00,00,000 के आस पास जो बच्चे हैं वो बाल मजदूरी कर रहे हैं जिनका बचपन पूरी तरह से गुलाम हैं और unicef की हालिया रिपोर्ट आप देखेंगे तो पाएंगे उसमे ये बताया गया हैं की जो पूरी दुनिया में जितने बाल श्रम हो रहे हैं उसमे जो 12% की हिस्सेदारी हैं वो भारत की हैं तो वो हमारे सामने शर्मनाक बात हैं लेकिन एक अच्छी बात ये हुई हैं की भारत सरकार ने 1 अच्छा कदम उठाते हुवे एक कोशिश तो की हैं जो पुराना कानून था

Also Check : Slogans on Child Labour in Hindi Language

1986 का जो पुराना कानून था उसमे संशोधन करके और एक तरफ से बाल श्रम को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने की बात की हैं. 14 साल के बच्चे अगर बाल मजदूरी नहीं करेंगे तो वो अपराध माना जाएगा तो ये अच्छी पहल हैं लेकिन जो कानून बनाया गया हैं जो ये नया विधेयक हैं उसमे बहुत सारी ऐसी कमियाँ हैं जिनकी वजह से ऐसा लगता हैं बाल मजदूरी घटने की जगह और बढ़ेगी इसमें 2 – 3 चीजों का ज़िक्र हम यहाँ पर करेंगे जो पिछला कानून था 1986 का जो कानून था उसमे ये कहा गया था की 14 साल तक के बच्चे भी काम कर सकते हैं लेकिन जो 83 उद्योग प्रक्रियाए हैं जो स्वास्थ्य के लिए बच्चे के लिए खतरनाक हैं उनमे ये बच्चे काम नहीं करेंगे

Essay on Child Labour in Hindi

लेकिन एक अच्छी बात थी वो लेकिन जो नया कानून बना वो 83 वाले से घटा के 3 कर दिया गया हैं यानी अब जो हैं और उसमे एक तरह से ये भी बाँट दिया गया हैं की जो 14 साल के बच्चे हैं वो जो हैं फॅमिली इंटरप्राइजेज में काम कर सकते हैं जैसे चाचा, ताऊ, फूफा, मामा, नाना नानी इसमें जो फॅमिली को डिफाइन किया हैं उसमे माता पिता तक तो ठीक हैं की बच्चे हाथ बटाते हैं.

 

 

 

 

About Child Labour in Hindi | Article on Child Labour in Hindi | Child Labour Essay in Hindi | Child Labour Essays | Child Labour in Hindi Language | Child Labour in India in Hindi | Child Labour Information in Hindi | Child Labour Slogans in Hindi | Essay on Child Labour in Hindi | Hindi Speech on Child Labour | Information on Child Labour in Hindi | Paragraph on Child Labour in Hindi | Quotation Against Child Labour | Quotes for Child Labor | Slogans of Child Labour in Hindi | Speech on Child Labour in Hindi | Street Play on Child Labour | What is Child Labour in Hindi

Also Check : Slogans for Child Labour in Hindi


जैसे की आमतौर पर घर में कुछ काम रहता हैं तो बच्चे भी समय बचा कर थोडा काम कर के माता पिता के साथ अपना हाथ बंटाते हैं. कहा गया हैं उसमे की पिता के भाई, माता का भाई, माता की बहन तो ये ताऊ चाचा मामा जो हैं वो भी इस तरह से परिवार में परिवार के हिस्से में आते हैं और काम करा सकते हैं अब इसकी दिक्कत ये हैं की हम लोगो ने जिस organisation की बात कर रहे हैं बचपन बचाओ organisation तो वो लगभग 30 सालो से बच्चो को छुड़ा रहा हैं उनके जो आंकड़े हैं उनको यदि आप देखेंगे तो उसमे से 21% बच्चे ऐसे हैं जो 14 साल से कम उम्र के हैं जो अपने परिवार में काम करते थे जिनको छुड़ाया गया, जो 83 industries थी उसमे वो लोग काम करते थे इसी तरह से जो total अगर देखा जाए उसमे 83 या 84% का आंकड़ा हैं जो बच्चे रिश्तेदारों के यहाँ ही काम करते थे.

 

एक तो ये जो हैं ये जो कानून हैं जो इसमें हैं अभी ये कहा गया हैं ये एक संग्य अपराध हैं सजा बड़ा दी गयी हैं लेकिन ये जो अपराध हैं वो शमी अपराध की श्रेणी में आ गया हैं.
यानी DM अगर कोई पहली बार पकड़ा जाता हैं जो बाल श्रम करा रहा हैं तो DM कुछ जुरमाना लगा के उसे छोड़ सकता हैं तो इससे बाल शहरम बढेगा तो ये कुछ चीज़े हैं जो सूचि को छोटा कर देना इसके बाद आपने देखा की फॅमिली एंटरप्राइज के नम पर लोगो का काम पर लगा देना तो ये कुछ ऐसी चीज़ हैं जो कानून में लूपहोल हैं. हम यहाँ मंशा की बात नहीं कर रहे हैं हो सकता हैं मंशा अच्छी हो पर ये जो लूपहोल हैं उससे बाल श्रम को बढ़ावा मिलेगा.

Essay on Child Labour in Hindi

Also Check : Slogan on Child Labour in Hindi

ये जो हमे आधुनिक भारत में समझ में आती हैं. 18६० में ब्रिटेन में जो ब्रिटन की क्रान्ति शुरू हुई तो बाल मजदूरी की समस्या वहां पैदा हुई. उससे पहल बाल मजदुर खेती हर समाज या फिर जो छोटे छोटे कॉटेज इंडस्ट्री पर टिक्का हुआ समाज होता हैं उसमे बाल मजदूरी को समस्या नहीं माना गया हैं उसमे उसे आनंद माना गया हैं चुकी इंडस्ट्री जो हैं वो बहुत मॉस प्रोडक्शन करती हैं और उसमे की तरह की परेशानियां सामने आती हैं और उन्हें केवल एक mature आदमी उन्हें Finish कर सकता हैं बच्चे उनमे कही दब से जाते हैं चाहे आप पीपल नगरी का मसला ले ले.

चाहे आप कालीन उद्योग का मसला ले ले चाहे बाकी भी आप उद्धरण ले सकते हैं एक बात ये हैं की बच्चो को उनके परिवार के अंतर्गत तब तक तो वो सुरक्षित थे जब तक वो खेती किसान के साथ में अगर बच्चा बुगी परर बैठ गया और दादाजी ने भैसे का रस्सा उसको पकड़ा दिया और किसी विभाग के अधिकारी ने देख लिया की ये भैसा या बुगी हांक रहा हैं तो दादाजी के ऊपर केस चलाना या कार्यवाई करना तो ये बात समझ में या अपच कर सकती हैं गाँव के लोगो को लेकिन जब से कंपनी आई हैं कमानियो में 12,00,000 बचे खतरनाक कामो में लगे हुवे हैं तो जो ये कपनियां जो हैं कही ना कही इनसे खतरा इनसे पैदा हुआ हैं. उद्योग से बचपन ज्यादा कुचला जा रहा हैं ना की सामाजिक सामान्य परिवेश हैं.

Also Check : Slogan in Child Labour in Hindi

बाल आस्था कहिये बाल मजदूरी कहिये ये चिमनी वाली उद्योगों से कही बढ़कर हैं उन्ही जीनो पर जहाँ पर खरती की गयी हैं चाहे कालीन उद्योग हो यया आप पोलिशिंग इंडस्ट्री हो या साडी उद्योग हो बहुत ज्यदा इस तरह के मजदुर मौजूद हैं लेकिन जहाँ पर भी इंडस्ट्री हैं मजदूरी वही पर हैं, बाल श्रम वही पर हैं. जो उनोर्गानिसे सेक्टर हैं वहां पर बा मजदूरी ज्यादा हैं जहाँ पर इंडस्ट्रियल एरिया हैं जहा पर हर जिस सिस्टेमेटिक तरीके से हो रही हैं वहां पर तो बच्चो की कोई एंट्री हैं ही नहीं जहा पर किसी भी तरह की परिभाषा नहीं हो उद्योग को लेकर वहां पर तमाम नियो का उलंघन करते हुवे काम कर रहे हैं वहां पर बच्चो को involve किया जा रहा हैं ये कहते हुवे की बच्चो को ज्यादा शोषित किया जा सकता हैं

Essay on Child Labour in Hindi

बच्चो को मजदूरी देकर काम करवाया जा सकता हैं ये एक दुसरे तरीके का हैं चिमनी वाले उद्योगों में और संगठित उद्योगों में ऐसा बहुत कम हैं ऐसा बहुत कम हैं लेकिन वहां पर बाल मजदूरी अपेक्षाकृत कम हैं तो सवाल यहाँ ये उठता हैं तो जैसे की यहाँ पर दादाजी की भैस वाली बात हुई तो कानून ऐसा भी नहीं हैं की वो बिलकुल अँधा होकर काम करे लेकिन वास्तविकता ये हैं की वो जहाँ पर वो काम कर रहा हैं अब तो अभ्रक का उद्योग बंद हो चूका है. तो बहुत बड़ा सवाल ये हैं की बच्चे जो बाई का मान ले लीजिये कोडरमा और गिरी अभ्रक का उद्योग जो बंद हो चूका हैं एक बहुत बड़ा सवाल हैं उनके लिए बिखरा पड़ा अभ्रक हैं वो क्या हैं


वो उनके लिए credit card हैं, ATM मशीन हैं बच्चे जाते हैं अभ्रक इक्कठा करते हैं और जाकर बेच दिया उस चीज़ को आप रोक रहे हैं. हमारा ये सवाल हैं की आप कानून पर कानून बनाए जा रहे हैं लेकिन जो वास्तविकता हैं उसको नहीं देख रहे हैं की आपने उस जगह के लिए उन लोगो के लिए किया क्या? greedy के लिए किया क्या, मायका माइनिंग इलाके के लिए किया क्या? कानून तो आप बनाए जा रहे हैं लेकिन आप क्या कर रहे हैं वो आप नहीं देख रहे.

Also Check : Slogan Against Child Labour in Hindi


लेकिन अब भी सवाल यहाँ ये उठता हैं की कुम्हार का बच्चा 3 बजे स्कूल से लौट कर जो गुल्लक हैं, जो बर्तन हैं उसने उनको भी आकार देना शुरू कर दिया. ऐसे में क्या उसके पिताजी के ऊपर मामला बनना चाहिए. तो हम आपको बता दे की बिलकुल नहीं बनना चाहिए ये तो परंपरा की बात हैं लेकिन इससे पहले का जो कानून था वो कहता था की कोई भी बच्चा काम कर सकता हैं जो पुराने कानून थे उसके आधार पर 14 साल तक को बच्चा माना गया था और वो बच्चा जिसको हमने बताया खतरनाक उद्योग थे जिसको सूचि दी गयी थी वो पटाखा उद्योग हैं, ढाबा आदि हैं उनके अलावा वो काम कर सकता हैं और हम भी चाहते हैं. हमारे ख्याल से जो हमारी परंपरा रही हैं उसमे इसी हिसाब से हम सीखते हैं.

Essay on Child Labour in Hindi


ये बुराई भी नहीं हैं इसको होना चाहिए लेकिन जो दूसरा सवाल हैं वो ये हैं की इसको आड नहीं बनाना चाहिए जो बाल मजदूरी कराइ जाती हैं पुरे देश में बड़ा तंत्र हैं आप देखते होंगे बहुत बड़े बड़े तस्कर हैं जो बच्चो की तस्करी करते हैं इसके बारे में जानने के लिए हमे इसके मूल में जाना होगा की बच्चे जो हैं सस्ते श्रम होते हैं. आप ये देखिये अगर किसी बड़े व्यक्ति से काम करेंगे उसको आपको ज्यादा पैसा देना पड़ेगा वो मन मुताबिक़ अपना काम करेगा, उसका एक समय निर्धारित होगा लेकिन बच्चे 24 घंटे काम करते हैं तो ये बड़ी बात हैं अभी जो बात हो रही हैं

Essay on Child Labour in Hindi

अब जो हैं 14 से जो 15 से अट्ठारह साल के बच्चे हैं अब वो भी allow कर दिए गए हैं वो संगठित क्षेत्र में भी काम कर सकते हैं नए कानून के मुताबिक तो आप देखिये वो जो हैं एक जो व्यस्क जो किशोर हैं वो एक आपके सस्ते मजदूर मिल जाएंगे तो सवाल यहाँ पर ये हैं इसका कानून तो हैं लेकिन कानून अपनी जगह ठीक हैं कानून की जरुरत ही क्यूँ पड़े अगर समाज, लोग और हुई पहल करे तो वो हमे लगता हैं की ज्यादा अच्छी बात हैं. परिवार बच्चे के उपर पहले अधिकार किसका होना चाहिए. परिवार का, गाँव का या सरकार का. पहला धिकार तो परिवार का ही होना चाहिए और सरकार भी मना नहीं करेगी. और एक civil society भी परिवार का विरोध नहीं करेगी. विरोध ये ख रहे हैं जो फॅमिली इंटरप्राइजेज की बात हैं जैसे की उद्हरण के लिए आपको एक case study स्टडी बताते हैं.

Essay on Child Labour in Hindi

Also Check : Slogan for Child Labour in Hindi


बच्चा हैं मेरठ का और वो काम सिखाने के नाम पर ताऊ या चाचा उसे ले आएं हैं उसकी जरी का छोटा सा काम था और वो जरी की काम फैशन की वजह से ज्यदा चलन में हिन् इसी वजह से उसमे कम करने की cost भी ज्यादा होती हैं लेकिन वो बच्चे से फ्री में काम कर रहे हैं या 10 – 20 रुपये आप देते हैं तो आप देखिये उसका बचपन भी प्रभावित हो रहा है. अगर पढने – लिखने की बात करे तो दुनिय में तमाम ऐसे अध्यन हो चुके हैं जो राष्ट्र विकसित हुवे हैं वो अपनी शिक्षा के बदौलत विकसित हुवे हैं. दुनिया की तमाम रिपोर्ट बताती हैं की अगर आप बच्चो की शिक्षा में निवेश करते हैं तो उसका कई गुना जो हैं वो राष्ट्र को मिलता हैं उके लिए skill devlopement के बाद वो ज्यादा कमाई कर लेता हैं तो सही सवाल ये हैं ना की ये की माता – पिता कराए या ना.

Essay on Child Labour in Hindi

क्या रास्ता हैं और उस रस्ते से civil society का क्या वास्ता हैं.

देखिये ऐसा हैं भिन्न भिन्न बच्चो के background हैं उनके आधार है. जैसे माँ बाप बहुत गरीब हैं तो वो छोटे छोटे बच्चो से मजदूरी करवाते हैं, काम करवाते हैं या फिर मगल शनि मांगने के लिए बजते हैं तो ऐसे जो  ब्च्चे हैं और उनकी जो शिक्षा हैं जिन्हें ऐसी शिक्षा नहीं मिलती हैं. जो वो बच्चे जो कूड़ा बीनते हुवे दिख जाते हैं, शनि मंगल मांगते हुवे दिख जाते हैं किसी बड़ी संस्था से जुड़ जाने के बाद उनके भीतर जो बदलाव आय होता हैं उसके बारे में हम आपको बता दे – धिरे धीरे कर के उन में बदलाव आता हैं, एक दम से बदलाव नहीं आता. सबसे बड़ी बात ये होती हैं की उनके साथ आत्मीयता का व्यहवार हो. उनको अपने जैसा लगे उनको ये ना लगे की ये तो बहुत ऊँचे लोग हैं या बड़े हैं.

 

 

उनके साथ उनके जैसा बना कर अगर हम लोग काम करते हैं तो अच्छा रहता हैं. शिक्षा भी उनको देते रहते हैं उनको बंद नहीं करवाते लेकिन उनको प्रेरणा देते हैं की ये काम तुम्हारे लायक नहीं हैं. तुम मंगल, शनि मांगना बंद करो, कूड़ा बिनना बंद करो तुम अच्छे तरह से पढाई करो और हम व्यावसायिक प्रशिक्षण भही देते हैं ताकि बड़े होते होते उनके अंदर skill भी develop होते रहे. जिससे उनका आत्विश्वास बढ़ता हैं और जो श्रम हैं उसके प्रति उनका गौरव का भाव अत हैं उसके साथ.
यहाँ पर सबसे बड़ी बात ये हैं की बाल श्रम एक तरीके से कही न कही जो हैं वो उसमे बहुत बड़ा महत्वपूर्ण कारक हैं.

Essay on Child Labour in Hindi

Also Check : Save Child Labour Slogans

शिक्षा देश में अगर उचित नहीं हैं और ऐसी शिक्षा नहीं हैं जो कही न कही किसी दिश में ले जा सके तो वो एक दिक्कत बनती हैं और देखने वाली बात हैं. अंतराष्ट्रीय स्तर पर अगर हम देखे तो जापान जैसे देश ने जब अपने सारे इलाके की अच्छी तरह से नाके बंदी कर रखी थो और अमेरिका वो देश था जो उसके अंदर घुसा और जैसे ही जापान ने उसके बाद दुनिया से संपर्क किया तो वहां के सम्राट को एक बात पहले सूझी की हमे हमारे लोगो को शिक्षा के मामले में ऊपर तक्क ले जाना हैं तो सम्राट के पास जितना भी खजाना था उन्होंने अपने देश के बच्चो के लिए, युवाओं के लिए खोल दिया उसके बाद जापान से अमेरिका और यूरोप जाने वाले शिक्षा प्राप्त करने वाले बच्चे थे उनकी संख्या सबसे ज्यादा थी और जापान जो हैं वो प्रगति के मामले में सबसे आगे निकल गया कही न कही शिक्षा व्यक्ति को skiled बनाती हैं कुशल बनाती हैं और कार्यकुशलता से प्रगति का सीधा सीधा सम्बन्ध होता हैं.

Essay on Child Labour in Hindi

शिक्षा जो हैं शिक्षा की जो भूमीका हैं खासतौर पर बचपन में बच्चे के साथ उस भूमिका से आप कितना इत्तेफाक रखते हैं. शिक्षा की तो हर समाज को जरुरत होती हैं और बाल मजदूरी को सीधा शिक्षा से जोड़ कर देखिये. क्युकी शिक्षा का मतलब केवल पढना नहीं होता जागरूकता होती हैं लोग जागरूक होते हैं, बच्चे जागरूक होते हैं, नागरिक जागरूक होते हैं. और इस पर तो सर्व सम्मति हैं की शिक्षा होनी ही चाहिए लेकिन उन इलाको में आदिवासी इलाको में, दूरवर्ती इलाको
में, वहां शिक्षा की हालात क्या हैं? शिक्षा के rights क्या हैं?

Essay on Child Labour in Hindi

 
देश में 36 तरह के बोर्ड हैं लेकन शिक्षा में गुणवत्ता नाम को लेकर समानता नहीं हैं. सबसे बड़ी बात हैं की आपकी नियत क्या हैं? अगर आपकी नियत ठीक होगी तो नज़र ठीक होगी और अगर नज़र ठीक होगी तो नज़ारा भी अच्छा होता हैं. दुःख की बात हैं. माइनिंग वाले इलाको में ऐसी स्थिति हैं शिक्षा विभाग है, शिक्षा विभाग में आला अधिकारी बैठते हैं, करते क्या हैं 12 बजे तक और 1 बजे तक जब विद्यालयों में जाते हैं तो छात्रो की उपस्थिति देखिये तो 100% हैं.

Essay on Child Labour in Hindi

Also Check : Quotes on Child Labour in Hindi Language

मिड डे मिल खाने के बाद बच्चे गायब हो जाते हैं. बच्चे कहाँ जा रहे हैं? बच्चे अभ्रक चुनने जा रहे हैं. वहां पर शिक्षा का अधिकार रखा गया हैं. जब तक लोग जागरूक नहीं होंगे शिक्षा को लेकर, शिक्षा विभाग के अधिकारी, शिक्षक जब तक इस मामले में प्रेरित नहीं किया जाएगा की आप शिक्षा का प्रकाश जलाइए तब तक ये अँधेरा रहेगा. शिक्षा बहुत ही जरुरी हैं
ये अलग कम से कम क्युकी हो सकता हैं की कुछ परिवार ऐसे हो जो जागरूक हो आने बच्चो के प्रति शिक्षा चाहते हो लेकिन कुछ परिवार ना भी हो ऐसा भी हो सकता हैं. लेकिन कम से कम एक गाँव के अंदर एक यूनिट के अंदर 5 – 7 लोग तो ऐसे होते होंगे जिनके अंदर इस तरह की awareness होती होगी.

Essay on Child Labour in Hindi

अगर उनको system अपने साथ direct attach करे जिसको participatory democracy कहते हैं, power अ सेविंग कहते हैं उनको उस शिक्षा में अगर वहां उनको अधिकार थे की चीजों को s तरह से ओर्गानिसे करे तो आपको क्या लगता हैं की इसमें किस तरह से रफ़्तार पकड़ेगी ये सारे के सारे जो समस्या हैं. जहाँ तक रफ़्तार की बात हैं तो इसमें गति आने ही वाली हैं. जब शिक्षा नहीं थी, ज्ञान नहीं था विवेक नहीं था तो स्वाभिमान जगा हैं. तो शिक्षा से व्यक्ति में स्वाभिमान तो जगता हैं.

Essay on Child Labour in Hindi
शिक्षा और बाल श्रम का आपस में एक ऐसा corelation हैं की अगर शिक्षा बच्चो को मिलनी शुरू हो जाए या सरकार उस पर invest करे गुणवत्ता वाली शिक्षा पर तो क्या ये देश को ही मिलने वाला हैं.
देखिये शिक्षा ही एक अकेला ऐसा माध्यम हैं जो बाल श्रम को पूरी तरह खत्म कर सकता हैं. और जो participatory democracy की बात करते हैं तो ऐसे experiment हो रहे हैं. तो एक बाल मिथ ग्राम की अवधारणा कर के हमारा concept हैं.

Also Check : Quotes on Child Labour in Hindi

About Child Labour in Hindi | Article on Child Labour in Hindi | Child Labour Essay in Hindi | Child Labour Essays | Child Labour in Hindi Language | Child Labour in India in Hindi | Child Labour Information in Hindi | Child Labour Slogans in Hindi | Essay on Child Labour in Hindi | Hindi Speech on Child Labour | Information on Child Labour in Hindi | Paragraph on Child Labour in Hindi | Quotation Against Child Labour | Quotes for Child Labor | Slogans of Child Labour in Hindi | Speech on Child Labour in Hindi | Street Play on Child Labour | What is Child Labour in Hindi

Essay on Child Labour in Hindi

Categories: 1

0 Replies to “Baal Mazdoori Essay In Hindi”

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *